Akal mrityu hone ke bad kya hota hai|अकाल मृत्यु होने के बाद आत्मा कहा जाती है

Akal mrityu hone ke bad kya hota hai,अकाल मृत्यु होने के बाद आत्मा कहा जाती है|

akal mrityu hone ke bad kya hota hai

हेल्लो दोस्तों कैसे हो आपलोग मै लाया हु आपलोगों के बिच बहुत ही इंट्रेस्टिंग और दिलचस्प टॉपिक को लेकर| दोस्तों क्या आपलोग को पता है की akal mrityu hone ke bad kya hota hai| यदि नहीं तो इस पोस्ट को ध्यान से जरुर पढियेगा| इस पोस्ट को पढने के बाद आपको आकाल मृत्यु के विषय में पूरी जानकारी मिल जायेगा|

दोस्तों जो इस संसार में जन्म लिया है उसको तो एक ना एक दिन तो मरना ही है| लेकिन कुछ लोग ऐसे होते है जो बेमौत मर जाते है, उसी को अकाल मृत्यु कहा जाता है| चलिए जानते है अकाल मृत्यु के बारे में विस्तार से|

akal mrityu hone ke bad kya hota hai:-

दोस्तों अकाल मृत्यु का नाम सुनकर दिल दहल उठता है क्योकि भगवान् ना करे की किसी के साथ ऐसा हो| दोस्तों अकाल मृत्यु एक ऐसा मौत है जिसे ना चाहते हुए भी लोगो को अकाल मृत्यु हो जाता है| दोस्तों अकाल मृत्यु क्या है, यह सब आपलोग भली भाती जानते होंगे लेकिन बहुत ही सरल शब्दों में आपलोगों को बताने का कोशिश कर रहे है| दोस्तों अकाल मृत्यु कभी भी किसी के साथ हो सकता है|

भगवान ना करे कभी भी किसी के साथ हो| दोस्तों अकाल मृत्यु दो तरह का होता है| एक वो होता है जो खुद ही अपना आत्महत्या कर लेता है और दूसरा वो होता है जो किसी एक्सीडेंट या फिर उसे किसी दुसरे व्यक्ति द्वारा मार दिया जाता है| दोस्तों कभी भी आत्म हत्या नही करना चाहिए क्योकि भगवान ने हमें इस संसार में भेजा है और वो भी मनुष्य अवतार में| आपने धरती पर बहुत से जीव जंतु देखे होंगे लेकिन मनुष्य में जन्म बहुत ही भाग्य से मिलता है| इसलिए मनुष्य में आपलोग को जनम मिला है तो ईश्वर की भक्ति के साथ जिन्दगी को फुल एन्जॉय कीजिये|

और अपनी पूरी जिन्दगी जीकर ही मरिये क्योकि अकाल मृत्यु वाले लोग को जल्दी आत्मा की शांति नही मिलती है| वह आत्मा इधर उधर भटकती रहती है इसलिए उसे भुत प्रेत का नाम दे दिया जाता है|

अकाल मृत्यु होने के बाद आत्मा कहा जाती है:-

दोस्तों अपनी पूरी जिन्दगी जीकर मरने के बाद आत्मा को कुछ ही दिनों में दूसरी शरीर मिल जाता है चाहे वह शरीर जिस भी योनी का हो| अपने मौत मरने के बाद आत्मा को शांति तुरंत मिल जाती है लेकिन अकाल मृत्यु मरने के बाद आत्मा भटकने लगत्ती है|

आत्मा को शांति नही मिलती है और यही आत्मा भुत प्रेत, राक्षस बन जाता है| इसकी आत्मा की शांति के लिए बरखी रख लिया जाता है और तिन साल बाद गया में ले जाकर पिंड दे दिया जाता है| ऐसा इसलिए किया जाता है क्योकि इसकी आत्मा को शांति गया से ही मिल सकता है| यही से इसे मोक्ष की प्राप्ति मिलती है और दूसरी योनी में जन्म मिलती है|
दोस्तों आपने यह महसूस किया होगा की किसी भी मृत्यु होने के बाद उसका आत्मा यही कही है| ऐसा इसलिए लगता है क्योकि उस जगह पर पूरा सन्नाटा छा जाता है और पूरा उदाश जैसा लगता है| फिर क्रिया क्रम के बाद फिर सबकुछ ठीक हो जाता है| क्योकि उसके क्रम के अनुसार उसे मोक्ष की प्राप्ति मिल जाती है|

अकाल मृत्यु केसे होती है:-

दोस्तों अकाल मृत्यु के बहुत से कारण है| जैसे एक्सीडेंट में मृत्यु हो जाना, बाढ़ के वजह से मृत्यु हो जाना ऐसे बहुत सारे दुर्घटना होते रहते है जिसमे अकाल मृत्यु होती है|

निष्कर्स:-

दोस्तों यह पोस्ट केवल जानकारी के पर्पस से लिखा गया है| इस पोस्ट में किसी के दिल को ठेस पहुचने के लिए नही लिखा गया है| हमें उम्मीद है की आपलोग को अकाल मृत्यु के विषय में पूरी जानकारी मिल गया होगा| और आपलोग ऐसा कोई भी काम ना करे जिसमे अकाल मृत्यु का शिकार होना पड़े|

यह पोस्ट आप लोगो को कैसा लगा कमेंट बॉक्स में जरुर बताइयेग और इसे शेयर करना नही भूलियेगा|

और पढ़े:-

Health meaning in hindi||अच्छा स्वास्थ का मतलब~

एलआईसी का मालिक कौन है||LIC kaha ki company hai~

Leave a Comment