Ek din me kitne ghante mobile chalana chahiye|1 दिन में कितने घंटे मोबाइल चलाना चाहिए

Ek din me kitne ghante mobile chalana chahiyeEk din me kitne ghante mobile chalana chahiye

-दोस्तो आज हम बात करने वाले हैं मोबाईल फोन के बारे में , आज के टेक्नोलॉजी के दुनिया में मोबाइल फोन तो सभी के पास होते है ,चाहे वह बच्चा हो ,बूढ़ा हो, लड़का हो या लड़की हों स्मार्ट फोन सबके पास होते है , इनमे से कुछ लोग मोबाइल फोन का दुरुपयोग करते है तो कुछ लोग सदुपयोग करते है ,वही छोटा बच्चा मोबाइल से गैमिंग करते है , पर किसी को ये बात पता नही है की एक दिन में मोबाइल कितना घंटा चलाना चाहिए की हमारे शरीर पर कोई खतरा न हो और हम स्वस्थ रहे |
लेकिन हैरान होने की कोई जरूरत नही है ,अगर आप भी जानते है तो कोई बात नही आज हम इन्ही सब टाफिक के बारे में बताने वाला हूं ,और आप सब अंतिम तक ध्यान से पढ़िए और सवालों का जवाब जानिए | तो चलते है दोस्तो प्रश्न की ओर……

– 1 दिन में कितने घंटे मोबाइल चलाना चाहिए ?

वैसे तो इस सवाल का कोई सटीक जवाब नहीं है लेकिन हम फिर भी इन सवालों का जवाब देना चाहूंगा | मोबाइल हर व्यक्ति के लिए एक महत्वपूर्ण अंग है मोबाइल के बिना व्यक्ति को जिंदगी जीना कठिन हो जाता है |आज के टेक्नोलॉजी के जमाने में मोबाइल एक दोस्त ,भाई ,बहन ,माता ,पिता, सब हो गए हैं कुछ लोग मोबाइल में अपना फिलिंग शेयर करते हैं और अपना इमेज रखते हैं और अपना साड़ी खुशियां इन मोबाइलों में कैद रखते हैं यहां तक कि अपने प्राइवेट सामान को भी मोबाइल में रखते हैं, बहुत सारे लोग मोबाइल से ही बिजनेस करते हैं और छोटे बच्चे दिन भर मोबाइल में गेम खेलते रहते हैं ,कॉलेज की विद्यार्थियों भी ऑनलाइन क्लास अब मोबाइल पर ही करने लगे हैं | कुछ लोग मोबाइल से ऐसे चिपके रहते है कि उन्हें एक सेकेंड के लिए मोबाइल से दूर होना बहुत बड़ी मुश्किल हो जाते है |लेकिन ज्यादा मोबाइल चलाने से हमारे शरीर में अनेक प्रकार की बीमारियां उत्पन्न होती है जैसे कि: – सिर दर्द ,थकान , बेचैनी , आंख की रोशनी , शारीरिक कमजोड़ी , नींद में अनियमितता का कारण बना रहता है |
इन्हीं सब कारणों से हम सब को 1 दिन में 2 से 3 घंटा ही मोबाइल का इस्तेमाल करना चाहिए | और रात में एक घंटा ही उससे ज्यादा नहीं करना चाहिए मोबाइल का प्रयोग |

Ek din me kitne ghante mobile chalana chahiye

* ज्यादा देर तक मोबाइल देखने से क्या
होता है ?
* रात में मोबाइल चलाने से क्या होता है ?
* मोबाइल के रेडिएशन को कैसे कम करें ?
* बच्चे को मोबाइल देखने से क्या होता है ?
* बच्चे को कितनी देर मोबाइल चलाना
चाहिए ?
* मोबाइल से कौन सी तरंगे निकलती है?

– ज्यादा देर तक मोबाइल देखने से क्या होता है ?

आपको यह जानकर हैरानी होगी कि मोबाइल का ज्यादा उपयोग करने से आपको सिर दर्द,थकान, बैचेनी, शारीरिक कमजोरी और नींद में अनियमितता का कारण बन जाता है जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है। एक शोध के इलेक्ट्रोनिक उपकरणों के प्रयोग से हमारे स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है।जिससे हमारे जान की खतरा है |

– रात में मोबाइल चलाने से क्या होता है ?

क्या आप जानते हैं, रात में मोबाइल चलाने की आदत आपको अंधा बना सकती हैं. रात में देर तक लेटकर मोबाइल चलाने से टेम्पररी ब्लाइंडनेस या अंधेपन का शिकार बन सकते हैं. … देर रात तक करवट लेकर फोन चलाने पर ये गंभीर टेम्पररी ब्लाइंडनेस की बीमारी हो जाती है , जिससे हम अंधा भी हो सकते है |

– मोबाइल के रेडिएशन खतरे से कैसे बचे ?

मोबाइल के रेडिएशन खतरे से बचने के लिए निम्न तरीका है: –

1:-सोते समय कभी भी मोबाइल को अपने
सिर के पास ना रखें।
2:-कोशिश करें मोबाइल आपके दिल के
पास ना हो।
3:-मोबाइल टावरों से जितना हो सके दूर
रहें।
4:-अगर कोई भी टावर आपके घर के
सामने है तो अपने घर की खिड़की और
दरवाज़े बंद रखें।
5:-कभी भी मोबाइल को कान से ज्यादा
चिपका कर बात ना करें।

– बच्चे को मोबाइल देखने से क्या होता है ?

10 साल से कम उम्र के बच्चों को मोबाइल कभी देना ही नहीं चाहिए | क्योंकि छोटे बच्चे अगर मोबाइल ले लेते हैं तो वह अपने आंख के पास मोबाइल को रखते हैं और बहुत ध्यान से मोबाइल को देखते हैं जिससे कि उनकी आंखों में काफी इफेक्ट होता है जिसके कारण कम उम्र में ही उन्हें चश्मा लग जाते हैं | और आगे चल के अंधापन का शिकार हो जाता है |

– बच्चे को कितनी देर मोबाइल चलाना चाहिए ?

छोटे बच्चे को मोबाइल कभी देना ही नहीं चाहिए | अगर किसी कारण से वह मोबाइल ले लेता है तो उसे कम से कम एक घंटा ही मोबाइल चलाने के लिए दिया जाना चाहिए उससे अधिक नही |

– मोबाइल से कौन सी तरंगे निकलती है?

हमारे मोबाइल से इलेक्ट्रो-मैग्नेटिक तरंगें निकलती है जिससे हमारे शरीर और स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह हैं। इन किरणों के कारण हमारी याददाश्त और सुनने की शक्ति कम हो सकती है। इससे निकलने वाले रेडिएशन के कारण कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी हो सकती है। मोबाइल फोन और उसके टावरों से होने वाले रेडिएशन से नपुंसकता और ब्रेन ट्यूमर की बीमारी भी हो सकता है |
* फोन देखने से क्या होता है ?
* मोबाइल कितना हानिकारक है ?
* मोबाइल को चार्ज में लगाकर बात करने से क्या होता है ?

– फोन देखने से क्या होता है ?

फोन से निकलने वाली रोशनी सीधे रेटिना पर असर करती है, जिसकी वजह से आंखें जल्दी खराब होने लगती हैं. इतना ही नहीं धीरे-धीरे देखने की क्षमता भी कम होने लगती है और सिर में दर्द बढ़ने लगता है.

-मोबाइल कितना हानिकारक है ?

वैज्ञानिकों का मानना है कि मोबाइल हमारे जीवन के लिए एक महत्वपूर्ण तो है , लेकिन इस मोबाइल के कारण हमारे शरीर पर अनेक सारी बीमारियों का सामना करना पड़ता है यह हमारे जीवन के लिए काफी हानिकारक है |

-मोबाइल को चार्ज में लगाकर बात करने से क्या होता है ?

मोबाइल को चार्ज में लगा कर बात करने से मोबाइल गर्म हो जाता है और बैटरी फूलने लगता है जिसके कारण मोबाइल ब्लास्ट भी हो जाता है |ब्लास्ट होने पर हमारे कान , हाथ पर काफी नुकसान पहुंचता है जिससे हम बहरा भी हो सकते हैं |
———–धन्यवाद——————-

vidyarthi ko kaise padhna chahie।।विद्यार्थी को कैसे पढ़ना चाहिए

Leave a Comment