Home TECH flipkart ka malik kaun hai||फ्लिपकार्ट का मालिक कौन है

flipkart ka malik kaun hai||फ्लिपकार्ट का मालिक कौन है

43
1

flipkart ka malik kaun hai/फ्लिपकार्ट का मालिक कौन है?

flipkart ka malik kaun hai

दोस्तों आप flipkart के बारे जानते होंगे ये एक भारतीय कंपनी है। amazon कंपनी के बाद ये एक दूसरा सबसे बड़ी e-commerce कंपनी है।
दोस्तों amazon कंपनी के मालिक का नाम इतना प्रचलित है कि लगभग में सभी जानते हैं।
लेकिन flipkart कंपनी के मालिक का नाम सायद ही कोई जानते होंगे।तो चलिए इस पोस्ट के माध्यम से जानते है कि आखिर flipkart का मालिक कौन है और ये किस देश का कंपनी है।

Flipkart क्या है ?

दोस्तों Flipkart E- Commerce कंपनी हैं जो अपने ग्राहक को ऑनलाइन service देता हैं। Flipkart बाजार में ऑनलाइन शॉपिंग को और भी सरल कर दिया हैं। कुछ समय पहले Flipkart पर सिर्फ किताबें ही उपलब्ध थी लेकिन अब Flipkart पर फैशन प्रोडक्ट के साथ साथ मोबाइल और कम्प्यूटर और भी भी कई तरह के समान उपलब्ध हैं।

आज के टाइम में आप Flipkart पर ऑनलाइन मूवी की टिकट भी ले सकते हैं। ग्राहक के सोहलियत के लिए Flipkart की वेबसाइट को अंग्रेज़ी भाषा के साथ-साथ हिंदी, तमिल और तेलुगु भाषा में भी दिखाया गया हैं।

Flipkart वेबसाइट की Alexa raking भी काफ़ी अच्छी हैं। अब आपके दिमाग में एक सवाल आया होगा कि यह Alexa rank क्या होती हैं? आपके जानकारी के लिए बता दु की Alexa rank ये दिखता हैं कि आपकी वेबसाइट को ऑनलाइन प्लेटफार्म पर कितना ज़्यादा पसंद किया जाता हैं।

दोस्तों Flipkart वेबसाइट की ग्लोबल रैंकिंग 104 हैं और भारतीय रैंकिंग में। 06 हैं। ग्लोबल रैंकिंग में 104 रैंक लाना अपने आप मे एक बड़ी बात हैं। यह रैंकिंग रोजाना बदलती रहती हैं। जो कभी कम तो कभी ज़्यादा होती रहती हैं। वेबसाइट की रैंक जितनी कम होती है उस वेबसाइट की पॉपुलैरिटी भी उतनी ही ज़्यादा होती है।

और पढ़े:vodafone ka malik kaun hai|वोडाफोन किस देश की कंपनी है-

Flipkart का मालिक कौन हैं ?

दोस्तों अब आते है मेन सवाल पर आखिर Flipkart का मालिक कौन है।इस कंपनी का मालिक सचिन बंसल और बिन्नी बंसल हैं। सचिन बंसल और बिन्नी बंसल दोनों दोस्त है और दोनों दोस्तों ने मिलकर आज इतना बड़ा कंपनी का निर्माण कर दिया।

सचिन बंसल और बिन्नी बंसल दोनों ही आईआईटी के students थे । दोनो दोस्तों ने IIT की पढ़ाई पूरी करने के बाद Amazon में काम भी साथ साथ  कि। दोनों दोस्तो ने amazon कंपनी से ही सीखा कि E- Commerce कम्पनी किस तरह से काम करती हैं।
E-COMMERCE की जानकारी प्राप्त करते ही दोनों दोस्तों ने ई-कॉमर्स वेबसाइट की शुरुआत की उस समय में भारत में कोई दूसरा इ-कॉमर्स वेबसाइट नहीं थी। सही तरह से देखा जाए तो सचिन बंसल और बिन्नी बंसल ही Flipkart के मालिक हैं। लेकिन 2018 में वालमार्ट ने Flipkart  के 77% शेयर को $16 बिलियन डॉलर में खरीद लिया था।

Flipkart का परिचय

flipkart ka malik kaun hai

किसी भी सफलता की कहानी पर एक त्वरित नज़र कहानी के केंद्र में एक पथभ्रष्ट विचार को दर्शाती है।  फ्लिपकार्ट कोई अपवाद नहीं है।  यह स्वयं विचार नहीं है, बल्कि विचारों को क्रिया और क्रिया को परिणामों में बदलने का दृढ़ विश्वास ही एक सच्ची सफलता की कहानी को परिभाषित करता है।  उस पैमाने से मापी जाने वाली फ्लिपकार्ट बेहद सफल रही है।
2007 में वापस, जब फ्लिपकार्ट लॉन्च किया गया था, भारतीय ई-कॉमर्स उद्योग अपने शुरुआती कदम उठा रहा था।  कंपनी सिंगापुर में पंजीकृत है, लेकिन उनका मुख्यालय भारत के बैंगलोर शहर में है।

Patanjali ka malik kaun hai|पतंजलि का मालिक कौन है और यह किस देश की कंपनी है

फ्लिपकार्ट फंडिंग इतिहास

अपने अस्तित्व के पहले कुछ वर्षों में, फ्लिपकार्ट ने वेंचर कैपिटल फंडिंग के माध्यम से धन जुटाया।  जैसे-जैसे कंपनी का कद बढ़ता गया, और अधिक फंडिंग आती गई।  फ्लिपकार्ट ने साल-दर-साल शानदार प्रदर्शन के साथ निवेशकों के विश्वास को चुकाया।  वित्तीय वर्ष 2008-09 में, फ्लिपकार्ट ने 40 मिलियन भारतीय रुपये की बिक्री की थी।  यह जल्द ही अगले वर्ष बढ़कर 200 मिलियन भारतीय रुपये हो गया।

धन उगाहने के उनके अंतिम दौर में उनका मूल्य $15 बिलियन तक बढ़ गया था, हालांकि, फरवरी 2016 तक, मॉर्गन स्टेनली के अनुसार, उनका अनुमानित मूल्य $11 बिलियन है।

फ्लिपकार्ट का विकास

जिस समय फ्लिपकार्ट की शुरुआत हुई थी, उस समय किसी भी ई-कॉमर्स कंपनी को दो बड़ी मुश्किलों का सामना करना पड़ता था।  एक थी ऑनलाइन पेमेंट गेटवे की समस्या।  बहुत से लोगों ने ऑनलाइन भुगतान को प्राथमिकता नहीं दी और गेटवे स्थापित करना आसान नहीं था।  फ्लिपकार्ट ने इस समस्या से निपटने के लिए कैश ऑन डिलीवरी और कार्ड ऑन डिलीवरी के अलावा अन्य भुगतान की शुरुआत की।  फ्लिपकार्ट लोकप्रिय ‘कैश ऑन डिलीवरी’ सुविधा को लागू करने वाला पहला था, जिसे भारत में हर ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट आज एक विकल्प के रूप में पेश करती है।
दूसरी समस्या संपूर्ण आपूर्ति श्रृंखला प्रणाली की थी।  समय पर सामान पहुंचाना सबसे महत्वपूर्ण कारकों में से एक है जो एक ईकॉमर्स कंपनी की सफलता को निर्धारित करता है।  फ्लिपकार्ट ने समय पर ऑर्डर देने के लिए अपनी आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन प्रणाली शुरू करके इस मुद्दे को संबोधित किया।

आज के समय में सचिन बंसल कंपनी के चेयरमैन हैं और बिन्नी बंसल फ्लिपकार्ट के सीईओ हैं।

फ्लिपकार्ट का अधिग्रहण

फ्लिपकार्ट ने बाजार में अपनी उपस्थिति बेहतर करने के लिए कुछ कंपनियों जैसे Myntra.com, LetsBuy.com आदि का भी अधिग्रहण किया।  Amazon.com के भारत में प्रवेश के साथ, कंपनियों के बीच प्रतिस्पर्धा में कई अधिग्रहण हुए हैं।  एक छोटी किताब ई-रिटेलर से भारत के सबसे बड़े ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म तक फ्लिपकार्ट की यात्रा स्टार्ट-अप की एक पीढ़ी को प्रेरित करती है।  एक ऐसे देश में जहां रूढ़िवादिता आम है, फ्लिपकार्ट ने आदर्श को तोड़ा और भारत में ई-कॉमर्स उद्योग को हमेशा के लिए बदल दिया।  फ्लिपकार्ट की कहानी साबित करती है कि अगर आपके पास एक महान विचार है, और आप एक कर्ता हैं और विचारक नहीं हैं, तो सफलता दूर नहीं है।

तो दोस्तों आपको flipkart के बारे में पूरी जानकारी मिल गयी होगी।अब आपको इसके बारे में लगभग बातें जान गये होंगे।अगर आपको ये पोस्ट महत्वपूण लगा तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते है।

Previous articleSurya mandir gwalior|ग्वालियर का सूर्य मंदिर🌞
Next articlesheikh zayed stadium pitch report in hindi~latest update

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here