Mahadevi Varma||महादेवी वर्मा की रचनाए,महादेवी वर्मा की कविता

Mahadevi Varma

Mahadevi Varma ki Rachnay|महादेवी वर्मा की रचनाए।

नमस्कार दोस्तों आज इस ब्लॉक में हम पढ़ेंगे महादेवी वर्मा की रचनाएं के बारे में अगर आप सब पहले से इस रचना के बारे में जानते हैं तो बहुत अच्छी वाली बात है। अब मुझे कमेंट में बता सकते हैं महादेवी वर्मा के बारे में, अगर आप नहीं जानते हैं महादेवी वर्मा की रचना के बारे में तो चिंता करने की कोई बात नहीं है इस ब्लॉक में उसकी रचना के बारे में पूरी विस्तार से पढ़ेंगे। और आप सब इस आर्टिकल को मन लगाकर पढ़िए और समझिए हो सके तो इसे याद भी कर लीजिए।

• (Mahadevi Varma)महादेवी वर्मा की रचनाए।

इस आर्टिकल में हम महादेवी वर्मा की रचना को याद करने के लिए बहुत ही आसान सा Trick लेकर आए हैं। जिसे पढ़कर आप सब को तुरंत याद हो जाएंगे तो आप सब मेरे साथ बने रहिए और अंत तक अच्छे से पढ़िए। महादेवी वर्मा के बारे में हर परीक्षा में पूछे जाते हैं जैसे कि: – SSC GD , RAILWAY , GROUP D , BANK , UPSC , IAS , IPS , ARMY , तथा अन्य प्रतियोगी परीक्षा में पूछे जाते हैं।

कविता संग्रह :-

महादेवी वर्मा के 8 कविता संग्रह है। जो की नीचे दिए गए हैं। आप ध्यान से पढ़िए।
(i)नीहार
(ii)रश्मि
(iii)नीरजा
(iv)सांध्यगीत
(v)दीपशिखा
(vi) सप्तपर्णा
(vii)प्रथम आयाम
(viii) अग्निरेखा
अब हम लोग महादेवी वर्मा के कविता संग्रह का आठवें नाम ट्रिक के माध्यम से याद करेंगे जो कि याद करने में काफी आसानी होगा।
TRICK:-देवी की कविता रश्मि अग्नि दीप निहारे संध्या में आये नीरजा सप्तपर्णा के घर

देवी की कविता :-

महादेवी वर्मा की कविता

रश्मि :- रश्मि
अग्नि :- अग्निरेखा
दीप :- दीपशिखा
निहारे :- नीहार
संध्या :- सांध्यगीत
आये :- प्रथम आयाम
नीरजा :- नीरजा
सप्तपर्णा :- सप्तपर्णा
घर :- सहयोगी शब्द
इन शब्दों की अतिरिक्त महादेवी वर्मा कविता के कुछ और भी चुने गए संकलन है। महादेवी वर्मा कविता के कुछ चुने गए रचनाएं नीचे दिए गए हैं इसे भी आप सब ध्यान से पढ़िए और याद कर लीजिए इस संकलन कविता को ट्रिक के माध्यम से याद करें ताकि आपको याद करने में आसान हो और जल्दी से ना भूल पाएंगे।
जैसे:-
(i) आत्मिका
(ii) निरंतरा
(iii) परिक्रमा
(iv) सन्धिनी
(v) यामा
(vi) गीतपर्व
(vii) दीपगीत
(viii) स्मारिका
(ix) हिमालय
इसे भी हम आप सब को आसानी से याद करवाने की कोशिश करेंगे वह भी ट्रिक के माध्यम से तो दोस्तों इस ग्रुप को आप याद रखिए और महादेवी वर्मा कविता के चुने हुए कुछ मुख्य संग्रह को याद रखें
Trick :- मै आत्मा तेरी हिमालय पार यमन मारे ध्वनि गिटार के
मै :- सहायक शब्द
आत्मा :- आत्मिका
तेरी :- निरंतरा
हिमालय :- हिमालय
पार :- परिक्रमा
यमन :- यामा
मारे :- स्मारिका
ध्वनि :- सन्धिनी
गिटार :- गीतपर्व ,दीपगीत
के :- सहायक शब्द

रेखाचित्र :-

अतीत के चलचित्र (1941) , स्मृति की रेखाएं (1943)
इन शब्दों को भी हम ट्रिक के माध्यम से याद करेंगे।
Trick :- मैने महादेवी का चित्र देखा हूं इसचित्र से आती है स्मृति रेखा
महादेवी का चित्र देखा – महादेवी वर्मा के
रेखा चित्र
हूं – सहायक शब्द
इसचित्र से – सहायक शब्द
आती है – अतीत के चलचित्र
स्मृति रेखा – स्मृति की रेखाएं

संस्मरण :-

पथ के साथी (1956),मेरा परिवार (1972),स्मृतिचित्र (1973) ,संस्मरण (1983)
इस सिमरन शब्द को भी हम ट्रिक के माध्यम से आप सबको याद करवाएंगे।
Trick :- रथ के साथी है मेरा परिवार स्मरण हो रहा है चित्र के पार
रथ के साथी – पथ के साथी
हैं – सहायक शब्द
मेरा परिवार – मेरा परिवार
स्मरण हो रहा है – संस्मरण
चित्र – स्मृतिचित्र
के पार – सहयोग के लिए
अब हम लोग महादेवी वर्मा कविता के निबंध के बारे में पड़ेंगे

निबंध संग्रह :-

1 शृंखला की कड़ियाँ
2 विवेचनात्मक गद्य
3 संकल्पिता
4 भारतीय संस्कृति के स्वर
इसे भी ट्रिक के माध्यम से पढ़िए इसका ट्रिक है
Trick :- ना बाँधो हाथकड़ी विवेक को
संकल्प भारत से सीख मिला
ना बाँधो – महादेवी वर्मा का निबंध
संग्रह
हाथकड़ी – शृंखला की कड़ियाँ
विवेक को – विवेचनात्मक गद्य
संकल्प – संकल्पिता
भारत से – भारतीय संस्कृति के स्वर
सिख मिला – सहयोगी शब्द
दोस्तों इस महादेवी वर्मा कविता के संग्रह के बारे में आपने बहुत अच्छी तरीका से जान गए होंगे और अब लोग को इस संग्रह को याद भी हो गया होगा मुझे लगता है कि इस संग्रह को पढ़कर आपको बहुत अच्छा लगा होगा और इस trick में जो हम आपको बताए हैं उसे आप कभी नहीं भूल पाएंगे। तो दोस्तों मेरा ट्रिक आप सबको कैसा लगा उसे आप कमेंट में मुझे जरूर बताएं और इस आर्टिकल को अपने दोस्तों में शेयर करें धन्यवाद मेरे दोस्तों|

Kaveri nadi ki paribhasa , udgam sthal , kaha se nikalti hai|कावेरी नदी की परिभाषा , उद्गम स्थल , कहा से निकलती है।

Leave a Comment